Candidates preparing for U.P. Judicial Services Exam should solve the U.P. Judicial Services Exam Mains 2018 Law (Procedure and Evidence) [Paper-II] and other previous year question papers before they face Prelims and Mains.

Candidates preparing for U.P. Judicial Services Exam should solve the U.P. Judicial Services Exam Mains 2018 Law (Procedure and Evidence) [Paper-II] and other previous year question papers before they face Prelims and Mains. It also gives an idea about the syllabus and how to prepare the subjects by keeping the previous year's questions in mind. All toppers are mindful and cognizant of the types of questions asked by the UP PCS (J), to be aware of the various different tricks and types of questions. This should be done by every aspirant when starting their preparation. It is very important to have an overall understanding of the pattern and design of questions.

U.P. Judicial Services Exam Mains 2018 Law (Procedure and Evidence) [Paper-II]

Only practising the authentic question papers will give you a real feel of the pattern and style of the questions. Here's U.P. Judicial Services Exam Mains 2018 Law (Procedure and Evidence) [Paper-II]. Practice and Prepare with our UPJS Mains Mock Test Series.

U.P. Judicial Services Main Written Examination 2018

LAW (Procedure and Evidence) [Paper II]

विधि ( प्रक्रिया एवं साक्ष्य) [ द्वितीय प्रश्न-पत्र ]

Time allowed : 3 hrs. Maximum Marks: 200

समयः तीन घण्टे अंक: 200

  • Attempt five questions in all. Question No. 1 is compulsory
  • At least one question must be attempted from each Section.
  • Marks carried by each question have been indicated against the question.

Question 1:

(a) On 2nd June 2017, Ram Singh, a schoolteacher, was travelling from Lucknow to Gorakhpur by a motor bus no. 1540 of UPSRTC. He sustained serious injuries due to the negligence, misconduct, and wrongful act of the driver of the bus, Mohd. Hakim, and the mechanic, attached with the bus by the corporation, Sunderlal (who was driving the bus at the time of the accident). He, with other casualties, was admitted to Govt. Hospital of Gorakhpur. He lost one of his hands permanently. His medical treatment continued in different hospitals till 12.08.2018 and during this period, he could not perform his teaching work, household duties, and cultivation. Now, the mechanic for a compensation of Rs. 25,00,000.

Write a plaint for plaintiff, Ram Singh, on the basis of the facts mentioned above. [20 Marks]

(b) Prepare a written statement for the defendant no. 1, the UPSRTC, answering the plaint made above under Question No. 1 (a) in the light of the following:

"The main plea of the defendant no. 1 is that the defendant no. 3, Sunderlal, is merely a mechanic of the bus and he was not authorised to drive the bus by the defendant no. 1. There occurred some mechanical defects in the bus suddenly and the defendant no. 3 was authorised only to cure the defects but after curing the defect, he took the steering wheel in his hands in order to check the bus without any authorisation and the bus met with the accident when he was driving the bus. Therefore, the corporation is not liable vicariously." [20 Marks]

OR

On 15.6.2018, the victim, a fourteen-year-old girl, was alone in her house situated at Lucknow and was preparing for her examination. The two accused named Dinu and Kallu were working in the house. They took advantage of the fact of her being alone. They raped her, strangulated her by using her undergarments and caused injuries on her person with a sharp weapon. They threw her body into a septic tank at the back side of the house, which showed a disregard of respect for human dead body. The prosecution has demanded for death penality for them on the ground that the matter comes within the category of the rarest of the rare cases. On the other hand, accused have argued against it.

Prepare a draft of charge against the accused into the matter. [20 Marks]

(b) On the basis of the facts in part (a), decide the matter and give your judgment. Also, award the reasonable punishment. [20 Marks]

(अ) दिनांक 2 जून, 2017 को राम सिंह, जो एक अध्यापक है, उ० प्र० राज्य सड़क परिवहन निगम की मोटर बस सं० 1540 से लखनऊ से गोरखपुर जा रहा था। उसे बस के ड्राइवर मोहम्मद हकीम, और प्रश्न के अंक प्रश्न के सम्मुख अंकित हैं। बस के साथ नियुक्त निगम के मैकेनिक सुंदरलाल (जो दुर्घटना के समय बस चला रहा था) की उपेक्षा कदाचरण और गलत कृत्य के कारण गंभीर चोंटे लगीं। उसे अन्य घायलों के साथ गोरखपुर के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया। उसे अपना एक हाथ स्थायी रूप से गँवाना पड़ा। उसका इलाज विभिन्न अस्पतालों में 12.08.2018 तक चला और इस दौरान वह अपने अध्यापन कार्य, गृह कार्यों और खेती के कार्य नहीं कर सका। अब राम सिंह उ० प्र० राज्य सड़क परिवहन नियम, बस के ड्राइवर और मैकेनिक के विरुद्ध 25,00,000 रुपये प्रतिकर का वाद लाना चाहता है।

उपर्युक्त तथ्यों के आधार पर वादी राम सिंह के लिए वादपत्र तैयार कीजिए।

(ब) उपर्युक्त प्रश्न संख्या 1 (a) के वादपत्र के उत्तर में प्रतिवादी संख्या 1, उ० प्र० राज्य सड़क परिवहन निगम के लिए लिखित कथन का प्रारूप निम्नलिखित के आलोक में तैयार कीजिए। " प्रतिवादी संख्या की मुख्य दलील यह है कि प्रतिवादी संख्या 3, सुंदरलाल, केवल बस का मैकेनिक है और वह प्रतिवादी संख्या के द्वारा बस चलाने के लिए अधिकृत नहीं था। बस में अचानक कुछ यांत्रिकी खराबी आ गयी थी जिसे सिर्फ ठीक करने के लिए प्रतिवादी संख्या 3 अधिकृत था परंतु खराबी ठीक करने के बाद उस मैकेनिक ने बस की जाँच करने के लिए स्टीरिंग व्हील बिना किसी प्राधिकार के अपने हाथों में ले लिया और बस की दुर्घटना तब हुई जब वह बस को चला रहा था। अतः निगम का कोई प्रतिनिधिक दायित्व नहीं है। "

अथवा

दिनांक 15.06.2018 को चौदह वर्ष की आयु की पीड़िता अपने लखनऊ स्थित घर पर अकेली थी और अपनी परीक्षा की तैयारी कर रही थी। दीनू और कल्लू नाम के दो अभियुक्त घर में कार्य कर रहे थे। पीड़िता के अकेले होने का लाभ उठाते हुए दोनों अभियुक्तों ने पीड़िता का बलात्संग किया, उसके अंत:वस्त्रों का प्रयोग करके उसका गला घोंट दिया और उसके शरीर पर तेज धार वाले हथियार से चॉटें पहुँचाई। उन्होंने पीड़िता के मृत शरीर को घर के पीछे बने सेप्टिक टैंक में फेंक दिया जिससे मनुष्य के मृत शरीर के प्रति असम्मान प्रतीत होता है। अभियोजन ने उनके लिए मृत्यु दंड की माँग इस आधार पर है कि यह विरल से विरलतम (rarest of the rares) मामलों की श्रेणी में आता है। वही अभियुक्तगण इसके विपरीत तर्क देते हैं।

इस प्रकरण में अभियुक्त के विरुद्ध आरोप प्रारूप तैयार कीजिए।

(ब) भाग (a) के तथ्यों के आधार पर मामले का निर्धारण करते हुए अपना निर्णय दीजिए। युक्तियुक्त सजा भी सुनाइए।

खण्ड (अ)/SECTION (A)

Question 2:

(a) discuss the provisions of the Civil Procedure Code relating to the issue of Commission. Also, give suitable illustrations. [20 Marks]

(b) Explain the rule of 'notice' prescribed in Section 80 of the Civil Procedure Code, 1908. Whether a right to notice could be waived? [10 Marks]

(c) On what grounds can a plaint be rejected by the Court? Discuss. [10 Marks]

(अ) सिविल प्रक्रिया संहिता में कमीशन जारी करने के प्रावधानों की विवेचना कीजिए। उपयुक्त उदाहरण भी दीजिए।

(ब) सिविल प्रक्रिया संहिता, 1908 की धारा 80 में निहित 'सूचना' के नियम को समझाइए क्या ऐसी सूचना के अधिकार का अधित्यजन किया जा सकता है?

(ग) एक वादपत्र न्यायालय द्वारा किन आधारों पर नामंजूर किया जा सकता है? विवेचना कीजिए।

Question 3:

(a) State the provisions which govern the determination of the place of suing in relation to the suits for compensation for wrong to person. Relation to the following, determine the place of suing:

A, B and C jointly take a loan from D at Prayagraj on a Promissory note payable on demand. D resides in Varanasi. A, B and C reside in Barely, Ghaziabad and Noida respectively. A, B and C fail to repay the loan on demand. [20 Marks]

(b) What do you understand by the 'foreign judgment'? when it is deemed to be conclusive? [10 Marks]

(c) What do you understand by the misjoinder and nonjoinder of the parties?

A enters into a contract with B to supply 100 quintals of sugar on 15.10.2018. The same day he agrees to supple to C and D separately the same quantity of sugar. A fails to supple sugar to all the three. Can all the three, i.e., B, C and D join together in one suit as plaintiffs against A? [10 Marks]

(अ) उन प्रावधानों का उल्लेख कीजिए जिनसे शरीर को कारित दोष (अपकार) हेतु प्रतिकर के लिए वादों के संबंध में वाद दायर करने का स्थान निर्धारित होता है। निम्नलिखित के संबंध में वाद दायर करने का स्थान निर्धारित कीजिए।

'क', 'ख' तथा 'ग' संयुक्त रूप से प्रयागराज में 'घ' से कुछ ऋण माँग पर देय प्रोनोट द्वारा लेते हैं।

'घ' वाराणसी का निवासी है। 'क', 'ख' तथा 'ग' क्रमशः बरेली, गाजियाबाद तथा नोएडा में रहते हैं।

'क', 'ख' तथा 'ग' माँग पर देय ऋण का भुगतान करने में असफल रहते हैं।

(ब) 'विदेशी निर्णय से आप क्या समझते हैं? इसे अन्तिम कब माना जाता है? विवेचना कीजिए।

(स) पक्षकारों के कुसंयोजन तथा असंयोजन से आप क्या समझते हैं?

'क', 'ख' के साथ 100 क्विटल चीनी की पूर्ति हेतु एक करार 15.10.2018 को करता है। 'क' उसी दिन उतनी ही मात्रा में चीनी 'ग' तथा 'घ' को अलग-अलग पूर्ति करने हेतु करार करता है। 'क' तीनों को ही चीनी की पूर्ति नहीं कर पाता है। क्या 'ख', 'ग' तथा 'घ' एक ही वाद में 'क' के विरुद्ध वादी के रूप में संयोजित हो सकते हैं?

Question 4:

(a) What is 'representative suit'? By whom and under what circumstances can such suit be brought? Is there any need to take consent of the persons who are to be represented? Discuss in the light of a decided cases. [20 Marks]

(b) (i) A, who was a treasurer of an association, misappropriates the funds of the association. By a resolution of the association, B, a member, was authorised to recover the amount misappropriated. Can B successfully sue A? Giver reasons for your answer. [10 Marks]

(ii) A, B and C were chosen by a community to represent them in a suit against K. But X, Y and Z, other members of the same community, supported the defendant K. Does it affect the representative character of the suit? Give reasons for your answer. [10 Marks]

(अ) प्रतिनिधि बाद क्या है? किनके द्वारा और किन परिस्थितियों में ऐसा वाद लाया जा सकता है? क्या प्रतिनिधि वाद संस्थित करने से पूर्व जिनका प्रतिनिधित्व करना है उनकी सहमति आवश्यक है? निर्णीत वादों के आलोक में विवेचना कीजिए।

(ब) (1) 'क', एक संगम का खर्जांची है, संगम की निधि का दुर्विनियोग करता है। संगम के एक संकल्प द्वारा 'ख', एक सदस्य को दुर्विनियोग की हुई निधि को वसूल करने का अधिकार दिया गया। क्या 'ख', 'क' के ऊपर सफलतापूर्वक मुदकमा चला सकता है? तर्क सहित उत्तर दीजिए।

(2) एक समुदाय ने 'क', 'ख' और 'ग' को 'र' के विरुद्ध वाद चलाने के लिए प्रतिनिधि के रूप में चुना। लेकिन उसी समुदाय के अन्य सदस्यों 'त', 'थ' और 'द' ने प्रतिवादी 'र' का समर्थन किया। क्या इससे प्रतिनिधि वाद के स्वरूप पर असर पड़ता है? तर्क सहित उत्तर दीजिए।

खण्ड (ब)/SECTION B

Question 5:

(a) Discuss the limits within which the rule of 'res gestae' operate. How far the ambiguities involved in this rule have been removed under Indian Law? Explain. [20 Marks]

(b) Whether a photograph of an original is secondary evidence even though the two have not been compared, if so when? Discuss the provisions of Law. [10 Marks]

(c) Discuss the meaning and utility of presumptions. Draw distinction between Rebutable Presumption of Law and Irrebutable Presumption of Law. [10 Marks]

(अ) उन सीमाओं की आलोचना कीजिए जिनके अन्तर्गत रस जेस्टे' का नियम कार्य करता है। भारती विधि के अन्तर्गत इस नियम की विसंगतियों को कहाँ तक दूर किया गया है? व्याख्या कीजिए।

(ब) क्या असली का एक फोटोग्राफ द्वितीयक साक्ष्य है, यद्यपि कि दोनों का मिलान न किया गया है, यदि है, तो कब? विधि के प्रावधानों की विवेचना कीजिए।

(स) उपधारणा के अर्थ एवं उपयोगिता की विवेचना कीजिए। विधि की खण्डनीय उपधारणा टा अखण्डनीय उपधारणा में भेद कीजिए।

Question 6:

Write exhaustive but brief notes on any two of the following: [10 + 10 = 20]

(i) Hostile witness

(ii) Leading question

(iii) Accomplice

(iv) Relevancy of custom

(b) Answer with reasons whole mentioning the related decided cases:

(i) A, B and C are prosecuted for the murder and conspiracy to murder of D. As the principle evidence of the conspiracy, certain letters written by the accused to each other during the conspiracy are submitted. A statement made to the Examining Magistrate by B, giving an account of the conspiracy, after arrest, is also put in evidence. what is relevant-the letters of the statement or the both? [10 Marks]

(ii) A is charged with travelling on railway without a ticket. On whom the burden of proof that he had a ticket shall lie? [10 Marks]

(अ) निम्नलिखित में से किन्हीं दो पर परिपूर्ण किन्तु संक्षिप्त टिप्पणियाँ लिखिए:

(1) पक्षद्रोही साक्षी

(2) सूचक प्रश्न

(3) सह-अपराधी

(4) रूढ़ि की सुसंगतता

(ब) संबंधित निर्णीत वादों का उल्लेख करते हुए कारण सहित उत्तर दीजिए:

(1) 'क', 'ख' और 'ग' को 'च' की हत्या और हत्या के षड्यंत्र के लिए अभियोजित किया जा है। पड्यंत्र के मुख्य साक्ष्य के रूप में अभियुक्तों के मध्य के दौरान लिखे गए कुछ रखे गए। साथ ही गिरफ्तारी के बाद 'ख' के द्वारा परीक्षण मजिस्ट्रेट को दिया गया षड्यंत्र का बयान भी साक्ष्य में रखा गया। क्या सुसंगत है-पत्र या बयान या दोनों ?

(2) 'क' पर रेलगाड़ी में बिना टिकट यात्रा करने का आरोप है। यह साबित करने का भार कि उसके पास टिकट था, किस पर होगा?

Question 7:

(a) Discuss the relevancy of judgments with the help of the provisions of the Indian Evidence Act, 1872 and reasonable illustrations. [20 Marks]

(b) When the evidence of an expert is to be admitted? What are the differences between an Expert an Ordinary Witness? Discuss. [10 Marks]

(c) What do you understand by the word 'Court' used in the Indian Evidence Act, 1872? Discuss with the help of decided cases. [10 Marks]

(अ) निर्णयों की सुसंगतता की विवेचना भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 1872 के प्रावधानों और उपयुक्त द्रष्ठांतो की सहायता से कीजिए।

(ब) कब विशेषज्ञ का साक्ष्य ग्राह्य है? विशेषज्ञ और साधारण साक्षी में क्या अंतर है? विवेचना कीजिए।

(स) भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 1872 के अन्तर्गत प्रयोगित शब्द 'न्यायालय से आप क्या समझते है? निर्णीत वादों की सहायता से विवेचना कीजिए।

खण्ड (स)/GROUP-C

Question 8:

(a) What will be the venue of trial in the following? Decide: [5 x 4 = 20 Marks]

(i) Where the offence has been committed in train during journey between Kolkata and Prayagraj.

(ii) Where the offence has been committed in the nature of cheating through letters between two persons situated at Meerut and Agra.

(iii) Where a boy is kidnapped from Prayagraj and first taken to Mumbai and then to Guwahati.

(iv) A abets B at Prayagraj to commit murder of C at Mumbai, B committed murder of C at Mumbai.

(b) Discuss the modes of recording evidence in a Sessions Trial. How does Summon Trial differ from Warrant Trial? Explain. [10 Marks]

(c) A police officer has no definite knowledge or definite information that A is tin possession of an instrument of housebreaking. The police officer arrests A. Is A's arrest illegal even though an instrument of housebreaking may actually be found on searching after the arrest? Answer with reasons. [10 Marks]

(अ) निम्नलिखित में विचारण का स्थान कौन-सा होगा? निर्णीत कीजिए:

(1) जबकि रेलगाड़ी में कोलकत्ता तथा प्रयागराज के बीच यात्रा के दौरान अपराध कारित हुआ है।

(2) जबकि मेरठ और आगरा में स्थित दो व्यक्तियों के मध्य पत्रों के माध्यम से छल प्रकृति का अपराध कारित हुआ है

(3) जबकि एक लड़का प्रयागराज से व्यपहरण के पश्चात् पहले मुम्बई और फिर गुवाहाटी ले जाया जाता है

(4) 'क' ने प्रयागराज में 'ख' को दुष्प्रेरित किया कि वह मुम्बई में 'ग' की हत्या करे। 'ख' ने मुम्बई में 'ग' की हत्या कर दी

(ब) सत्र विचारण में साक्ष्य अभिलिखित करने के तरीकों की विवेचना कीजिए। किस प्रकार से सम्मन विचारण, वारण्ट विचारण से भिन्न है? समझाइए।

(स) एक पुलिस अधिकारी को न तो इस बात का कोई निश्चित ज्ञान है और न ही कोई निश्चित सूचना है कि 'क' गृह भेदन का उपकरण करता है। पुलिस अधिकारी 'क' को गिरफ्तार करता है। क्या 'क' की गिरफ्तारी अवैध है, यद्यपि गिरफ्तारी के बाद 'क' की तलाशी में गृह भेदन का उपकरण वास्तव में उसके पास पाया गया? कारण सहित उत्तर दीजिए।

Question 9:

(a) Under what circumstances is Magistrate empowered to take action in connection with disputes concerning immovable property under Section 145 of the Code of Criminal Procedure, 1973? Explain. [20 Marks]

(b) Discuss the powers of the District Magistrate under Section 144 of the Code of Criminal Procedure, 1973. [10 marks]

(c) What is the jurisdiction of the Criminal Courts in enquiries and trials under the Code of Criminal Procedure, 1973. [10 Marks]

(अ) किन परिस्थितियों में दण्ड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 145 के अन्तर्गत को अचल संपत्ति के सम्बन्ध उठे विवादों के होने पर कार्यवाही करने का अधिकार प्राप्त है? समझाइए।

(ब) दण्ड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 144 के अन्तर्गत जिलाधिकारी की शक्तियों की विवेचना कीजिए।

(स) दण्ड प्रक्रिया संहिता, 1973 के अन्तर्गत पृच्छा एवं परीक्षण हेतु फौजदारी न्यायालयों के क्या क्षेत्राधिकार हैं?

Question 10:

(a) (i) Whether a Magistrate can ask any accused to give specimen signature or handwriting? Discuss with exception, if any. [10 Marks]

(ii) Whether an accused in appeal from acquittal can be arrested an committed to prison pending the disposal of the appeal? Discuss. [10 Marks]

(b) What irregularities committed by a Court do not vitate trial? Also discuss when it vitiates. [10 Marks]

(c) An accused is arrested in bailable offence an he is released on bail. During trial, he absconds and nonbailable warrants are issued against him. The police arrests him and produce him before the Court. The defence counsel pleads for his release on bail under Section 436(1), Cr.P.C. which provides that a person accused of a bailable offence shall be released on bail.

Can the Court, in such circumstances refuse to release him on bail? Give reasons briefly. [10 Marks]

(अ) (1) क्या कोई मजिस्ट्रेट किसी अभियुक्त से नमूना हस्ताक्षर या हस्तलेखन देने को कह सकता है? अपवाद, यदि कोई है, के साथ विवेचना कीजिए।

(2) क्या दोषमुक्ति के विरुद्ध किसी अपील में किसी अभियुक्त को गिरफ्तार किया जा सकता है और अपील के निस्तारण तक जेल में रखने का निर्देश दिया जा सकता है? विवेचना कीजिए।

(ब) न्यायालय द्वारा कारित की गयी कौन-सी अनियमितताएँ परीक्षण को दूषित नहीं कर देती हैं? यह भी विवचना कीजिए कि कब दूषित कर देती है।

(स) एक अभियुक्त जमानतीय अपराध के लिए गिरफ्तार किया जाता है और वह जमानत पर रिहा हो जाता है। परीक्षण के दौरान वह फरार हो जाता है और उसके विरुद्ध गैर-जमानतीय वारण्ट जारी किया जाते हैं। पुलिस उसे गिरफ्तार करती है और न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत करती है। बचाव पक्ष का अधिवक्ता उसकी जमानत पर रिहाई के लिए अभिवाक् सी० आर० पी० सी० 436 (1) के अन्तर्गत करता है जो यह प्रावधानित करती है कि कोई व्यक्ति जो जमानतीय अपराध का अभियुक्त है, को जमानत पर छोड़ दिय जाएगा।

क्या न्यायालय ऐसी परिस्थितियों में उसे जमानत पर छोड़ने से मना कर सकती है? संक्षेप में कारण दीजिए।

Updated On
Exam Reporter LB

Exam Reporter LB

Next Story